बालिकाओं के लिए सरकारी छात्रवृत्ति: बालिकाओं को दी जाने वाली केंद्र सरकार और राज्य सरकार की छात्रवृत्ति पर एक नजर

छात्रों को अवसर प्रदान करने में छात्रवृत्ति एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। स्कॉलरशिप की मदद से छात्रों को संसाधन और एक मंच प्रदान किया जाता है जो उनके विकास में मदद करता है। भारत सरकार आर्थिक अंतर को पाटने और संसाधनों तक समान पहुंच प्रदान करने के लिए छात्रों को विभिन्न छात्रवृत्तियां प्रदान करती है। छात्र नेशनल स्कॉलरशिप पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट-scholarships.gov.in पर चेक करते रहें। पोर्टल छात्रों को छात्रवृत्ति प्रदान करने के लिए एक समान मंच के रूप में कार्य करता है।

केंद्र सरकार और राज्य सरकार दोनों द्वारा बालिकाओं के लिए छात्रवृत्ति देश में महिलाओं और महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए बेहतर अवसर प्रदान करने में मदद करती है। कई महिलाएं अभी भी उच्च शिक्षा तक पहुंच से वंचित हैं, छात्रवृत्ति महिलाओं को सार्वजनिक जीवन में शामिल होने और समाज में उनकी स्थिति के उत्थान में मदद करने का एक बड़ा मौका प्रदान करती है। यहाँ भारत में एक बालिका के लिए केंद्र सरकार और राज्य सरकार की कुछ छात्रवृत्तियों पर एक नज़र है।

बालिकाओं के लिए सरकारी छात्रवृत्ति: केंद्र सरकार की छात्रवृत्ति पर एक नजर

बेगम हजरत महल राष्ट्रीय छात्रवृत्ति-यह छात्रवृत्ति वर्ष 2003-04 में शुरू हुई थी। इसका उद्देश्य कक्षा 9 से 12 तक पढ़ने वाली छात्राओं को छात्रवृत्ति प्रदान करना है। यह छात्रवृत्ति अल्पसंख्यक समुदायों की छात्राओं को प्रदान की जाती है। छात्रों को प्रदान की जाने वाली राशि 5,000 रुपये और 6,000 रुपये है। छात्र आधिकारिक वेबसाइट-bhmnsmaef.org पर चेक करते रहें। छात्रवृत्ति अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा कार्यान्वित की जाती है। आवेदन करने के इच्छुक उम्मीदवार वेबसाइट-maef.nic.in पर जाकर रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। उम्मीदवारों को ध्यान देना चाहिए कि आवेदन करने के लिए, योग्यता परीक्षा या पिछली परीक्षा में कम से कम 50% अंक प्राप्त करने चाहिए।

सामाजिक विज्ञान में अनुसंधान के लिए स्वामी विवेकानंद एकल बालिका छात्रवृत्ति- यह छात्रवृत्ति विश्वविद्यालय अनुदान आयोग या यूजीसी द्वारा प्रदान की जाती है। कोई एकल बालिका जो अपनी पीएच.डी. किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से इस छात्रवृत्ति के लिए पात्र हैं। 40 वर्ष तक की छात्राएं इस छात्रवृत्ति के लिए पात्र हैं। छात्र को शुरुआत में दो साल की अवधि के लिए 25,000 रुपये की फेलोशिप दी जाती है। दो साल बाद, राशि 28,000 रुपये हो जाती है। अधिक जानकारी के लिए उम्मीदवार आधिकारिक वेबसाइट-svsgc.ugc.ac.in पर चेक करते रहें।

सिंगल गर्ल चाइल्ड के लिए पोस्ट-ग्रेजुएट इंदिरा गांधी स्कॉलरशिप- यह स्कॉलरशिप यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन या यूजीसी द्वारा लड़कियों की शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए शुरू की गई थी। कोई भी अकेली लड़की जिसने किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम में प्रवेश लिया है, वह इस छात्रवृत्ति के लिए पात्र है। हालांकि, यह केवल पीजी प्रथम वर्ष के छात्रों के लिए लागू है जहां छात्रों को प्रति माह 31,000 रुपये मिलते हैं। अधिक जानकारी आधिकारिक वेबसाइट-sgc.ugc.ac.in पर देखी जा सकती है।

लड़कियों के लिए प्रगति छात्रवृत्ति- यह छात्रवृत्ति मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा बालिकाओं को तकनीकी शिक्षा के लिए प्रोत्साहित करने के लिए शुरू की गई थी। यह छात्रवृत्ति उस छात्र पर लागू होती है, जिसे अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद या एआईसीटीई द्वारा अनुमोदित संस्थान में डिग्री या डिप्लोमा पाठ्यक्रम में प्रवेश दिया जाता है। छात्र को लगभग 30,000 रुपये की ट्यूशन फीस दी जाती है। इसके अलावा, 10 महीने की अवधि के लिए, छात्रों को 20,000 रुपये दिए जाते हैं। छात्रों को सलाह दी जाती है कि वे छात्रवृत्ति के लिए आवेदन करने से पहले विस्तृत अधिसूचना देखें।

बालिकाओं के लिए सरकारी छात्रवृत्ति: राज्य सरकार की छात्रवृत्ति पर एक नजर

सावित्रीबाई फुले छात्रवृत्ति- यह छात्रवृत्ति महाराष्ट्र सरकार द्वारा कक्षा 5 से 10 तक की बालिकाओं को प्रदान की जाती है। छात्रवृत्ति का उद्देश्य एससी, एसबीसी और अन्य की छात्राओं को वित्तीय सहायता प्रदान करना है। छात्र अधिक जानकारी के लिए आधिकारिक वेबसाइट-mahadbtmahait.gov.in पर चेक करते रहें।

मुस्लिम नादर गर्ल स्कॉलरशिप, केरल- यह स्कॉलरशिप केरल सरकार द्वारा प्रदान की जाती है। छात्रवृत्ति का लाभ उठाने के लिए, छात्र को किसी भी मान्यता प्राप्त सरकार या सहायता प्राप्त कला या विज्ञान कॉलेज से किसी भी यूजी पाठ्यक्रम की प्रथम वर्ष की छात्रा होनी चाहिए। अधिक जानकारी के लिए छात्रों को आधिकारिक वेबसाइट-dcescholarship.kerala.gov.in पर जाना चाहिए।

कन्याश्री प्रकल्प वार्षिक छात्रवृत्ति- यह छात्रवृत्ति पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा 13 से 18 वर्ष की आयु की अविवाहित लड़कियों को प्रदान की जाती है। यह सरकारी या किसी अन्य वोकेशन कोर्स या अन्य में कक्षा 8 से 12 के छात्रों को 500 रुपये की वार्षिक छात्रवृत्ति प्रदान करता है। छात्र अधिक जानकारी wbkanyashree.gov.in पर प्राप्त कर सकते हैं।

हमें उम्मीद है कि यहां दी गई जानकारी छात्रवृत्ति के बारे में अधिक जानने के इच्छुक और उत्सुक किसी भी व्यक्ति के लिए फायदेमंद थी। छात्रों को छात्रवृत्ति के बारे में अधिक अपडेट प्राप्त करने के लिए यहां बताई गई आधिकारिक वेबसाइटों पर नजर रखनी चाहिए। इसके अलावा, कई अन्य राज्य जैसे असम, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश बालिकाओं को उनके सशक्तिकरण के लिए छात्रवृत्ति प्रदान करते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.