मीराबाई चानू नेट वर्थ 2022: करियर, मेडल, आय, संपत्ति

मीराबाई चानू नेट वर्थ, जीवनी, आयु, पति, ऊंचाई, वजन, और कई अन्य विवरण इस पृष्ठ से देखे जा सकते हैं। मीराबाई चानू की कुल संपत्ति $0.7 मिलियन है। मीराबाई चानू ने टोक्यो ओलंपिक में भारत का पहला पदक जीता। हाल ही में मीरा बाई चानू ने टोक्यो ओलंपिक में 49 किग्रा वर्ग में रजत पदक जीतकर भारत को गौरवान्वित किया। इसी के साथ भारत को 2021 ओलंपिक में पहला पदक मिला है।

Mirabai Chanu Net Worth मीराबाई चानू नेट वर्थ

मीराबाई चानू की कुल संपत्ति 0.7 मिलियन अमरीकी डालर (5 करोड़) होने का अनुमान है, जो भारतीय मुद्रा में लगभग 5 करोड़ भारतीय रुपया है। मीराबाई चानू की कुल संपत्ति में पिछले कुछ वर्षों में 10% की वृद्धि देखी गई है। साथ ही, मीराबाई चानू की अधिकांश कमाई ब्रांड एंडोर्समेंट और व्यक्तिगत निवेश से आती है।

नाममीराबाई चानू
नेट वर्थ (2022)$0.7 मिलियन
भारतीय रुपये में नेट वर्थ5 करोड़ रुपये
पेशाभारतीय भारोत्तोलक
मासिक आय और वेतन4 लाख +
वार्षिक आय50 लाख +
आखरी अपडेट2022

मणिपुर सरकार ने रुपये के नकद पुरस्कार की घोषणा की है। स्वर्ण पदक विजेताओं के लिए 1.2 करोड़ रु. रजत पदक विजेताओं के लिए 1 करोड़ और रु। टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक विजेताओं के लिए 75 लाख

Mirabai Chanu Cash Rewards 2021 मीराबाई चानू नकद पुरस्कार

मणिपुर सरकार।रु. 1 करोर
रेलवेरु. 2 करोड़
बीसीसीआईरु. 50 लाख
भारतीय ओलंपिक संघरु 25 लाख
हरियाणा सरकारसरकारी नौकरी
अधिकआपको जल्द ही अपडेट करें

Personal Info व्यक्तिगत जानकारी

मीराबाई चानू का जन्म मणिपुर के इंफाल में हुआ था। यह मणिपुर के पूर्व में स्थित है। उनकी जन्मतिथि 8 अगस्त 1994 है। इस हिसाब से उनकी अब तक की उम्र महज 23 साल है। उनकी शिक्षा भी यहीं से शुरू हुई।

Saikhom Mirabai Chanu World Records

  • मीराबाई ने 24 साल की उम्र में कई रिकॉर्ड अपने नाम किए हैं, जिनकी जानकारी नीचे दी गई है।
  • मीराबाई एक महिला भारोत्तोलक हैं जिन्होंने 2017 विश्व भारोत्तोलन चैंपियनशिप में 48 किलोग्राम वर्ग में स्वर्ण पदक जीता था। इससे पहले 2014 में ग्लासगो में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स में भी उन्होंने 48 किलो वर्ग में सिल्वर मेडल जीता था।
  • इस साल भी 2018 में उन्होंने कॉमनवेल्थ गेम्स में गोल्ड जीतकर भारत को पहला गोल्ड दिलाया था. यह सोना महिलाओं के 48 किलो भारोत्तोलन में भी है।
  • मीराबाई का चयन 2016 के रियो ओलंपिक में भी हुआ था, लेकिन दुर्भाग्य से वह इस दौरान भारत के लिए कोई पदक नहीं ला सकीं।
  • उन्होंने वर्ष 2016 में गुवाहाटी में आयोजित बारहवें दक्षिण एशियाई खेलों में भी स्वर्ण पदक जीता था।
  • सम्मान : खेलों में उनके अच्छे प्रदर्शन और समर्पण के कारण मणिपुर के मुख्यमंत्री ने उन्हें 20 लाख की राशि भी दी। और अपने प्रदर्शन से उन्होंने अपना, मणिपुर और भारत का नाम रोशन किया।

After the victory, Mirabai Chanu remembered her mother.

जीत के बाद मीराबाई ने कहा कि मेरे लिए यह सपने के सच होने जैसा है। मीराबाई चानू इस पदक को मेरे देश और यहां के करोड़ों लोगों को समर्पित करती हैं। वह लगातार मेरे लिए प्रार्थना करती थी। मैं अपने परिवार के सदस्यों को धन्यवाद देना चाहता हूं। इस सफर में मेरी मां ने मेरा बहुत साथ दिया। उसने मुझ पर विश्वास किया और मेरे लिए कई बलिदान किए।

मीराबाई चानू ने कहा कि मुझे भी सरकार से काफी मदद मिली. भारतीय खेल प्राधिकरण, IOA (भारतीय ओलंपिक संघ) और भारतीय भारोत्तोलन महासंघ ने मेरा समर्थन किया। मैं अपने कोच विजय शर्मा सर को भी धन्यवाद कहना चाहता हूं। उसने मुझे कड़ी मेहनत की। जय हिन्द।

Leave a Comment

Your email address will not be published.